top of page

बाल अधिकार मौलिक मानवाधिकार हैं



बाल अधिकार मौलिक मानवाधिकार हैं जो प्रत्येक बच्चे को उनके लिंग, जाति, धर्म, जातीयता या किसी अन्य कारकों की परवाह किए बिना हकदार हैं। भारत में, बाल अधिकारों को भारत के संविधान में प्रतिष्ठापित किया गया है और बच्चों के अधिकारों की रक्षा के लिए विभिन्न कानून और नीतियां बनाई गई हैं। हालाँकि, इन प्रयासों के बावजूद, भारत में लाखों बच्चे अभी भी अपने मूल अधिकारों से वंचित हैं। भारत में कुछ ऐसे बाल अधिकार हैं जिन्हें संरक्षित और बढ़ावा देने की आवश्यकता है:


शिक्षा का अधिकार: शिक्षा एक बुनियादी मानव अधिकार है और यह बच्चों के समग्र विकास के लिए आवश्यक है। भारत में, शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 में पारित किया गया था, जो 6 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए शिक्षा को मौलिक अधिकार बनाता है। सरकार इस आयु वर्ग के प्रत्येक बच्चे को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।


स्वास्थ्य का अधिकार: बच्चों को स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँचने और जरूरत पड़ने पर चिकित्सा प्राप्त करने का अधिकार है। भारत सरकार ने बच्चों को मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए एकीकृत बाल विकास सेवा (आईसीडीएस) और राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) जैसी कई योजनाएं शुरू की हैं।


संरक्षण का अधिकार: बच्चों को सभी प्रकार के दुर्व्यवहार, शोषण और हिंसा से सुरक्षित होने का अधिकार है। सरकार ने बच्चों को दुर्व्यवहार और शोषण से बचाने के लिए यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (POCSO) अधिनियम, 2012 और किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 जैसे कई कानून बनाए हैं।


अभिव्यक्ति का अधिकार: बच्चों को अपनी राय और विचारों को स्वतंत्र रूप से व्यक्त करने का अधिकार है। भारत सरकार ने बाल पंचायत और बाल सभा जैसे बाल भागीदारी और सगाई को बढ़ावा देने के लिए कई कार्यक्रम लागू किए हैं।


उत्तरजीविता का अधिकार: प्रत्येक बच्चे को उत्तरजीविता और विकास का अधिकार है। सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए कि बच्चों को पर्याप्त पोषण मिले, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 और मध्याह्न भोजन योजना जैसी कई योजनाएँ शुरू की हैं।


इन कानूनों और नीतियों के बावजूद, भारत में लाखों बच्चों को अपने मूल अधिकारों तक पहुँचने में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। गरीबी, शिक्षा की कमी और भेदभाव कुछ ऐसे कारक हैं जो भारत में बाल अधिकारों के उल्लंघन में योगदान करते हैं।


इसके अलावा, कोविड-19 महामारी ने इन चुनौतियों को और बढ़ा दिया है, जिसमें कई बच्चे हिंसा, शोषण और दुर्व्यवहार के बढ़ते जोखिम का सामना कर रहे हैं। अंत में, बच्चों के विकास और हमारे राष्ट्र के भविष्य के लिए बाल अधिकारों की रक्षा करना और उन्हें बढ़ावा देना महत्वपूर्ण है। यह सुनिश्चित करना सरकार, नागरिक समाज और व्यक्तियों की जिम्मेदारी है कि भारत में प्रत्येक बच्चा अपने मौलिक अधिकारों का उपयोग करने और गरिमा और सम्मान का जीवन जीने में सक्षम हो।

29 views0 comments

Recent Posts

See All

गरीब महिलाओं को बेकरी व्यापार के माध्यम से आत्मनिर्भर बनाना।

दान करें और कुसुंपुर पहाड़ी, वसंत विहार, दिल्ली के गरीब समुदाय की सहायता करें! स्वयंसहायता को सशक्त बनाने के लिए 4B फाउंडेशन का धन्यवाद! हमारा लक्ष्य है कुसुंपुर पहाड़ी, वसंत विहार, दिल्ली के गरीब महि

Comments


bottom of page